हिंदी ने भी कई भाषा के शब्दों को इस तरह अपनाया है कि वो शब्द हिंदी के ही लगते है :संदीप मारवाह

भारत में हर दस किलोमीटर में बोली बदलती है – संदीप मारवाह
शब्दों की प्रेरणा शक्ति है हिंदी भाषा

नोएडा/ फेस वार्ता

अपनी भाषा का सम्मान उतना ही ज़रूरी है जितना आपके गुरुजन का सम्मान। लेखक अशोक अरोड़ा

नोएडा: भारत एक ऐसा देश है जहाँ हर दस किलोमीटर में बोली बदलती जाती है और हर प्रदेश की भाषा बदलती जाती है किंतु हम भारत की मातृ भाषा हिंदी को लेते है जैसे की माँ अपने सारे बच्चों को एक जैसा प्यार करती है और उसके अंदर हर चीज़ को अपनाने की क्षमता होती है ठीक उसी प्रकार हिंदी ने भी कई भाषा के शब्दों को इस तरह अपनाया है कि वो शब्द हिंदी के ही लगते है आज हिंदी दिवस पर मैं पूरे देशवासियों को मुबारकबाद देना चाहूंगा और साथ ही कहना चाहूंगा कि ज्यादा से ज्यादा हिंदी भाषा का प्रयोग करे, यह कहना था एएएफटी यूनिवर्सिटी के चांसलर डॉ. संदीप मारवाह का जो सातवें ग्लोबल लिटरेरी फेस्टिवल नोएडा का वर्चुअल आयोजन कर रहे है ।

इस अवसर पर देश विदेश की जानी मानी हस्तियां कंबोडिया के राजदूत सिन युंग, भारत के आयरलैंड में राजदूत अखिलेश मिश्रा, शोभित यूनिवर्सिटी के चांसलर कुंवर शेखर विजेंद्र, लेखक अशोक अरोड़ा और अशोक कुमार शर्मा ने भाग लिया सिन युंग ने कहा कि कोविड ने हम सबको बदल कर रख दिया है आज हम डिजिटल ज़िंदगी जी रहे है और दूरी बनाकर भी एक साथ है जहां तक भाषा का सवाल है हम सब अपनी भाषा से अपने देश से प्रेम करते है और मैं कहना चाहूंगा कि न सिर्फ अपनी भाषा का सम्मान करें बल्कि अन्य भाषाओं को सीखे भी।
अखिलेश मिश्रा ने इस अवसर पर कहा कि भारतीय संस्कृति में चिंतन, दर्शन, परंपरा में वाणी, भाषा, शब्द व अक्षर केवल संवाद और विचारों के सम्प्रेक्षण मात्र नही है बल्कि, यह विचारों की संवाहिनी भी है और प्राणशक्ति भी है।
कुंवर शेखर विजेंद्र ने कहा कि हमें अपनी भाषा को जीवित रखना है तो उसे मात्र हिंदी दिवस के रूप में न मनाकर उसे अपनाना ज़रूरी है, आज मैं युवाओं को देखता हूँ तो लगता है की उन्होंने हिंदी की जगह इंग्लिश को पूर्णतः अपना लिया है जोकि गलत है अपनी भाषा का सम्मान उतना ही ज़रूरी है जितना आपके गुरुजन का सम्मान। लेखक अशोक अरोड़ा ने कहा कि एस तरह के फेस्टिवल होते रहने चाहिए जिससे लोगों को पता चले की हमारी भाषा हिंदी इतनी विशाल है की जिसमें एक वाक्य को हज़ारों तरीके से बोला जा सकता है और समझने वाला हज़ारों तरीक़े से समझ सकता है, हिंदी दिवस पर मैं उन लेखकों को याद करना चाहता हूं जिन्होंने असंख्य शब्द हिंदी को दिए।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *