पानी का प्रदूषण रोकने व बारिश के पानी को संजोने के लिए सख्त कदम उठाने की जरूरत: सुरेन्द्र सिंह।

फेस वार्ता

ग्रेटर नोएडा 02जून22

गांवों को कूड़ा मुक्त के साथ ही झगड़ा मुक्त गांव बनाने की जरूरतः सुरेन्द्र सिंह

सॉलिड वेस्ट मैनेजमेंट पर ग्रेनो प्राधिकरण के ऑडिटोरियम में आयोजित कार्यक्रम में बोले मंडलायुक्त
–कहा, पानी का प्रदूषण रोकने व बारिश के पानी को संजोने के लिए सख्त कदम उठाने की जरूरत

मंडल के सभी जिलों के अधिकारियों ने लिया हिस्सा, स्वच्छता कार्यक्रमों पर दिए प्रस्तुतिकरण

ग्रेटर नोएडा प्राधिकरण के सीईओ व मेरठ मंडलायुक्त सुरेंद्र सिंह ने कहा है कि गांवों को कूड़े से मुक्त बनाने के साथ ही झगड़े से भी मुक्त करने की जरूरत है। आपसी सौहार्द को बढ़ाने के लिए गांवों में समितियां बनाई जाएं। गांवों में पानी के प्रदूषण को रोकने के लिए ग्राम प्रधान जुर्माना तय करें। प्रदूषण फैलाने वालों पर जुर्माना लगाएं।

ग्रेटर नोएडा प्राधिकरण के जन स्वास्थ्य विभाग की तरफ से ऑडिटोरियम में आयोजित कार्यक्रम में मेरठ मंडलायुक्त व सीईओ सुरेन्द्र सिंह ने कहा कि ग्राम प्रधानों ने बीते कुछ वर्षों में बहुत सकारात्मक कार्य किए हैं। अब सरकारी पाठशालाएं किसी मॉडर्न स्कूल से कम नहीं हैं। गांवों में आधुनिक पुस्तकालय बन रहे हैं। जहां छात्र-छात्राएं सभी तरह (मेडिकल, इंजीनियरिंग आदि) की किताबें पढ़कर अपना भविष्य बना रहे हैं। इससे उन्हें अनुकूल माहौल मिल रहा है। गांवों में एस्ट्रॉनॉमी लैब बन रही हैं। पंचायत सचिवालयों का रंग-रूप व उपयोग बदल गया है। अब गांव नाली व खड़ंजे के लिए नहीं जूझ रहे, बल्कि खेलकूद के मैदान, ओपन जिम, रेन वॉटर हार्वेस्टिंग आदि बन रहे हैं। हर 500 मीटर पर गांवों में अब वाटर कूलर भी दिखते हैं। गांवों के प्रधान गांवों के प्रधानमंत्री से कम नहीं होता। दूरबीन के जरिए गांवों के लोग चंद्रमा, आकाश गंगा को देख रहे हैं। यह बदलाव बहुत अल्पकाल में हुआ है। मेरठ मंडल में अभी तक 4 मदर एंड न्यू बॉर्न केयर यूनिट हैं। 30 जून तक सभी गवर्नमेंट फैसिलटी में मदर एंड न्यू बॉर्न केयर यूनिट बनाने का लक्ष्य है। अब तक 70 फीसदी काम हो चुके हैं। ग्राम प्रधान अब गांवों में खेलों के मैदान उपलब्ध करा रहे हैं। हमें कन्युनिटी की और जरूरतों को समझने की जरूरत है। कोरोना काल में गांवों लौटे लोगों ने नए-नए एंट्रेप्रिन्योर शुरू कर रहे हैं। पहले गांवों में कूड़ा दिखता था। अब स्थिति बदल रही है। ग्रामीण क्षेत्र में अब भी कूड़े की समस्या ज्यादा बड़ी है। साबुन, शैंपू, डाई आदि से जल प्रदूषित हो रहा है। इसे रोकने की जरूरत है। पहले हम लोग इन तालाबों में नहाते थे, लेकिन अब ये तालाब सेप्टिक टैंक बन गए हैं। सभी अधिशाषी अधिकारी, नगर विकास अधिकारी, ग्राम प्रधान पहले खुद सीखें और उसे क्रियान्वित करें। मंडलायुक्त ने कहा कि बारिश का समय आने वाला है। पानी को संरक्षित करें। यह बहुत शुद्ध पानी होता है। इसे नाली या तालाब में जाने देते हैं। इसे संजोने की जरूरत है। घरों में पानी का उपयोग कम करना होगा। ग्राम पंचायतों को अपने कानून बनाना होगा। कूड़ा डालने, पानी बर्बाद करने आदि पर जुर्माना लगेगा। खुली बैठक कर जुर्माने की रकम तय करें। सामूहिक ग्राम पंचायतें मिलकर (को-ऑपरेटिव मॉडल) कई बड़े काम कर सकती हैं। ग्राम पंचायतों को भौतिक इंफ्रास्ट्रक्चर से ही मजबूत नहीं करना है, बल्कि आपसी सद्भाव को भी बढ़ाना होगा। इसके लिए समितियां बनाना होगा। सड़क टूट जाए तो दोबारा बन जाएगा, लेकिन दिलों की दूरी नहीं बनाई जा सकती है। गांवों में सामाजिक समरसता बढ़ाने की जरूरत है। कूड़ा मुक्त करने के साथ ही झगड़ा मुक्त बनाने की जरूरत है। इस कार्यक्रम में मेरठ मंडल के अंतर्गत सभी जिलों के अधिकारीगण शामिल हुए और सॉलिड वेस्ट मैनेजमेंट पर उठाए जा रहे कदमों पर प्रस्तुतिकरण दिया। मंच का संचालन प्राधिकरण के वरिष्ठ प्रबंधक अनिल यादव ने किया। इस कार्यक्रम में गाजियाबाद के नगर विकास आयुक्त, बुलंदशहर, बागपत, हापुड़, गौतमबुद्ध नगर आदि जिलों के मुख्य विकास अधिकारी, नगरपालिका व नगर पंचायत के अधिशाषी अधिकारी, कई गांवों के ग्राम प्रधान आदि शामिल हुए। कार्यक्रम में सीईओ सुरेन्द्र सिंह ने डि-स्लजिंग कार्य में लगे लोगों को सर्टिफिकेट देकर पुरस्कृत किया गया। गांवों को साफ रखने पर रौनीजा व खैरपुर को भी सर्टिफिकेट देकर सम्मानित किया गया

कूड़े से बने सजावटी उत्पाद से सजा सकेंगे घर

ऑडिटोरियम में इपका व एसबीआई कार्ड से किया करार

ग्रेनो प्राधिकरण सीएसआर के तहत बनवा रहा प्रोसेसिंग प्लांट

ग्रेटर नोएडा में जल्द ही कूड़े से बने बेंच, कुर्सी, टेबल, सजावटी जैसे उत्पाद खरीद सकेंगे। ग्रेटर नोएडा प्राधिकरण ने इंडियन पोल्यूशन कंट्रोल एसोसिएशन (इपका) और एसबीआई कार्ड के साथ बृहस्पतिवार को करार हो गया है। इसका प्रोसेसिंग प्लांट म्यू वन के रीक्रिएशनल ग्रीन एरिया में बनेगा।

ग्रेटर नोएडा प्राधिकरण के सीईओ व मेरठ मंडलायुक्त सुरेन्द्र सिंह ने ऑडिटोरियम में इपका व एसबीआई कार्ड के प्रतिनिधियों को सीएसआर के तहत हुए अनुबंध पत्र को सौंपा। इस प्लांट पर क्लस्टर चार के अंतर्गत आने वाले सेक्टरों व गांवों के गीले व सूखे कूड़े को उठाकर प्लांट तक ले जाया जाएगा और उसे सेग्रिगेट कर प्रोसेस किया जाएगा। सूखे कूड़े को रीसाइकिल कर बोर्ड तैयार होगा, जिससे लैंप, कुर्सी, टेबल, बेंच व अन्य सजावटी उत्पाद बन सकेंगे, जबकि गीले कूड़े से कंपोस्ट बनाई जाएगी, जिसका इस्तेमाल हरियाली बढ़ाने में हो सकेगा। ओमीक्रान वन ए, वन, टू व थ्री, पाई 1 व 2, बिरौंडा, बिरौंडी वह एच्छर शामिल हैं। इसका प्लांट म्यू वन के रीक्रिएशनसल ग्रीन में बनाया जाएगा। इस प्लांट से बायो मिथेनेशन गैस भी बनाई जाएगी, जो ईंधन के रूप में काम आएगी। इस प्लांट से रोजाना करीब 10 टन कूड़े का प्रोसेस हो सकेगा। इपका अगले दो से तीन माह में घरों से कूड़ा उठाने का काम शुरू कर देगी। अगले छह माह में प्लांट बनने के बाद प्रोसेस शुरू हो जाएगा। इस प्लांट को सीएसआर के तहत बनवाने से ग्रेटर नोएडा प्राधिकरण को 4 से 5 करोड़ रुपए की बचत हुई है।

स्वच्छता रैंकिंग में नंबर वन बनी स्टेलर वन

गौड़ सौंदर्यम दूसरे व एल्डिको माइस्टिक तीसरे पायदान पर

सीईओ सुरेन्द्र सिंह ने सोसाइटी प्रतिनिधियों को दिए पुरस्कार

ग्रेटर नोएडा प्राधिकरण की स्वच्छता रैंकिंग प्रतियोगिता में ग्रेटर नोएडा वेस्ट के सेक्टर एक स्थित स्टेलर वन सोसाइटी ने बाजी मार ली है। स्वच्छता में सबसे अधिक अंक हासिल कर नंबर वन सोसाइटी बन गई है। स्टेलर वन को ग्रेटर नोएडा प्राधिकरण के सीईओ सुरेन्द्र सिंह की तरफ से दो लाख रुपये बतौर पुरस्कार दिए गए। दूसरे पायदान पर गौड़ सौंदर्यम और तीसरे पायदान पर एल्डिको माइस्टिक रहीं। इनको क्रमश 1.5 लाख व एक लाख रुपये का पुरस्कार दिया गया। ग्रेटर नोएडा प्राधिकरण की तरफ से बृहस्पतिवार को ऑडिटोरियम में आयोजित कार्यक्रम में सीईओ व मेरठ मंडलायुक्त सुरेन्द्र सिंह ने इन सोसाइटियों के प्रतिनिधियों को पुरस्कार राशि, प्रतीक चिन्ह व प्रशस्ति पत्र प्रदान किए।

दरअसल, ग्रेटर नोएडा में स्वच्छता को बढ़ावा देने के लिए ग्रेटर नोएडा प्राधिकरण की तरफ से बल्क वेस्ट जनरेटरों के लिए स्वच्छता रैकिंग प्रतियोगिता बीते वर्ष कराई गई थी। प्राधिकरण ने प्रतियोगिता में हिस्सा लेने के लिए कई पैरामीटर तय किए, जिसके आधार पर सर्वाधिक अंक हासिल करने वाली संस्थाओं को पुरस्कृत करने का निर्णय लिया गया। सबसे ज्यादा अंक पाकर पहले पायदान पर आने वाली संस्था को दो लाख रुपये, दूसरे पायदान पर डेढ़ लाख और तीसरे पायदान पर आने वाली संस्था को एक लाख रुपये और चौथे, पांचवे व छठें स्थान पर आने वाली सोसाइटी को 50-50 हजार रुपये इनाम देने का एलान किया गया। प्राधिकरण के जनस्वास्थ्य विभाग ने बल्क वेस्ट जनरेट करने वाली सभी रिहायशी सोसाइटियों से आवेदन मांगे। करीब 50 सोसाइटियों ने इस प्रतियोगिता में हिस्सा लिया। इस प्रतियोगिता में स्टेलर वन सोसाइटी ने सर्वाधिक अंक हासिल किए। सीईओ सुरेन्द्र सिंह ने सोसाइटी के प्रतिनिधियों को दो लाख रुपये, प्रशस्ति पत्र व प्रतीक चिन्ह प्रदान किए। इसी तरह दूसरे पायदान पर टेकजोन फोर स्थित गौड़ सौंदर्यम और तीसरे पायदान पर ओमीक्रॉन वन स्थित एल्डिको माइस्टिक को क्रमश 1.5 लाख व एक लाख रुपये का पुरस्कार, प्रतीक चिन्ह व प्रशस्ति पत्र प्रदान किए। इनके अलावा सेक्टर गामा टू स्थित द किंग्स रिजर्व रेजीडेंट वेलफेयर एसोसिएशन, सेक्टर अल्फा वन स्थित आईआरडब्ल्यूओ पाम कोर्ट एसोसिएशन और ग्रेटर नोएडा वेस्ट के सेक्टर 16 स्थित निराला एस्पायर को सांत्वना पुरस्कार के लिए चुना गया। तीनों सोसाइटियों को 50-50 हजार रुपये, प्रशस्ति पत्र व प्रतीक चिंह का पुरस्कार प्रदान किया गया। सीईओ सुरेन्द्र सिंह ने सभी बल्क वेस्ट जनरेटरों से कूड़े को खुद से प्रोसेस कर ग्रेटर नोएडा को और स्वच्छ बनाने का आह्लान किया।

Leave a Reply

Your email address will not be published.