केजरीवाल सरकार को बर्खास्त करने की मांग- राष्ट्र निर्माण पार्टी।

फेस वार्ता

 दिल्ली: केजरीवाल सरकार को बर्खास्त करने की मांग- राष्ट्र निर्माण पार्टी  राष्ट्र निर्माण पार्टी के कार्यकर्त्ताओं द्वारा विशाल प्रदर्शन करते हुए अभी हाल ही में हुए (अप्रैल 16,  2022) जहांगीरपुरी दंगों तथा पूर्व में 23 फरवरी 2020 में हुए दिल्ली दंगों के लिए जिम्मेदार केजरीवाल सरकार की बर्खास्तगी की मांग की।  पिछले दिनों देश में हो रहे सांप्रदायिक दंगो के प्रति चिंता वयक्त करते पूर्व वरिष्ठ पुलिस अधिकारी डा. आनंद कुमार जो कहा कि जहांगीरपुरी दंगों में शामिल सारे प्रमुख चेहरे भी आम आदमी पार्टी से संबंधित हैं। ऐसा प्रतीत होता है कि दंगे कराना व सांप्रदायिक माहौल को बिगाड़कर मुस्लिमों के वोट प्राप्त करना केजरीवाल सरकार का प्रमुख धंधा हो गया है। हालात ऐसे हो चुके हैं कि स्टेट मशीनरी संविधान के प्रावधानों के अनुकूल कार्य करने में अपने को असमर्थ पा रही है। अतः भारतीय संविधान के आर्टिकल 356 के अंतर्गत राज्य सरकार को बर्खास्त करने की आवश्यकता है।राष्ट्र निर्माण पार्टी के संस्थापक अध्यक्ष ठाकुर विक्रम सिंह ने दिल्ली व देश के अन्य हिस्सों में रह रहे अवैध करोड़ों बांग्लादेशी / रोहिंग्या घुसपैठियों को देश से बाहर निकालने की मांग करते हुए कहा कि इन घुसपैठियों के कारण हमारे देश के नवयुवक बेरोजगार हो रहे हैं। अर्थव्यवस्था पर भारी बोझ पड़ रहा है। साथ ही ये लोग सांप्रदायिक सदभाव बिगाड़ने व गंभीर अपराधों को अंजाम देने में संलग्न हैं। जनसंख्या के संतुलन को भी बिगाड़ रहे हैं। शांति व सुरक्षा के लिए खतरा बने हुए हैं।

पर केजरीवाल सरकार इन अवैध घुसपैठियों को बढ़ावा दे रही है, संरक्षण दे रही है। सरकार की जिम्मेदारी होती है कि देश के नागरिकों के हित में काम करे। विदेशी घुसपैठियों को बसाना, बढ़ाना, संरक्षण देना, आपराधिक कृत्य होने के साथ-साथ देशद्रोह की श्रेणी में आता है। अतः ऐसी सरकार की बर्खास्तगी की मांग करना बिल्कुल उचित है।पार्टी के उपाध्यक्ष डा. कुमार राजेश ने बताया कि उनकी पार्टी दिल्ली नगर निगम द्वारा जहांगीरपुरी में अतिक्रमण हटाने के लिए किए गए प्रयास का पूर्ण समर्थन करती है। हमारी मांग है कि wall to wall, one to all अर्थात् पूरा तथा सभी का अतिक्रमण हटाया जाए। जहांगीरपुरी से अतिक्रमण हटाने के बाद दिल्ली के अन्य क्षेत्रों में भी अतिक्रमण को हटाने की कार्यवाही की जाये ।दिल्ली प्रदेश के कार्यकारी अध्यक्ष सतपाल कालरा ने कहा कि सभी जानते हैं कि 16 अप्रैल को  हनुमान जन्मोत्सव शोभा यात्रा पर जहांगीरपुरी स्थित जामा मस्जिद से पथराव किया गया था तथा वहां पर आक्रमण की तैयारी पहले से की गई थी। ऐसा कानून बनाया जाये कि जिन धार्मिक स्थलों का उपयोग हिंसा के लिए किया जाएगा उनकी धार्मिक स्थल के रूप में मान्यता खत्म कर दी जाएगी। ऐसे तथाकथित धार्मिक स्थलों को अतिक्रमण मानकर उसे भी हटाने की कार्यवाही की जाए।इस अवसर पर राष्ट्रीय कवि सारस्वत मोहन मनीषी ने अपने काव्य उद्बोधन के द्वारा सभी देशवासियों  को राष्ट्र निर्माण के लिए आगे आने का आह्वान किया। वैदिक आचार्य जयेन्द्र द्वारा इस अभियान का पूर्ण समर्थन किया गया। मनोज गुलाटी, राष्ट्रीय महासचिव, राधाकांत शास्त्री राष्ट्रीय सचिव, धर्मपाल सिंह, अध्यक्ष दिल्ली प्रदेश, दानवीर विद्यालंकार, राष्ट्रीय कोषाध्यक्ष आदि ने इस अवसर पर अपना पूरा समर्थन इस कार्यक्रम को दिया।

Leave a Reply

Your email address will not be published.