महंत स्वामी ब्रहम गिरी महाराज ने मां सरस्वती की स्तुति करते हुए प्राचीनकलीन बाराही मेला और ऐतिहासिक महत्ता पर प्रकाश डाला।

फेस वार्ता। भारत भूषण शर्मा

सूरजपुर में प्राचीन ऐतिहासिक बाराही मेला-2022 प्रति वर्ष की भांति कोविड-19 महामारी के लंबे अंतराल के बाद इस बार भी 14 अप्रैल-2022, दिन गुरूवार से शुरू हो गया है। 14 अप्रैल-2022 दिन गुरूवार को प्रातः 10 बजे (यज्ञ) हवन आचार्य सुमित शुक्ला ने संपन्न कराया। जब कि सांय 4.30 बजे शिव मंदिर मेला समिति के अध्यक्ष चौधरी धर्मपाल भाटी प्रधान और महामंत्री ओमवीर बैंसला,कोषाध्यक्ष लक्ष्मण सिंघल मीडिया प्रभारी मूलचंद शर्मा समेत विभिन्न पदाधिकारियों ने ध्वजारोहण कर बाराही मेले का शुभारंभ किया। प्राचीनकालीन बाराही मेले के सांस्कृतिक मंच पर मां सरस्वती की वंदना के साथ आरती हुई। महंत स्वामी ब्रहम गिरी महाराज ने मां सरस्वती की स्तुति करते हुए प्राचीनकलीन बाराही मेला और ऐतिहासिक महत्ता पर प्रकाश डाला। इसके बाद भजन संध्या का कार्यक्रम शुरू हुआ और जो देर रात्रि तक चलता रहा। स्वर्गीय जयपाल भगती जी की शिष्य मंडली के श्रीचंद भाटी, धर्मवीर भाटी, ओमवीर नागर, यादराम महाशय ने— पंख जो होते मैं उड जाती नंद बाबा के द्वार। उमड उमड मेरा हिया आवे बह दूध
की धार।।
भजन प्रस्तुत करते हुए महौल को भक्तिमय बना दिया। ओमवीर विधूडी ने नरसी के भात प्रंसग से भजन प्रस्तुत किए। जब कि शिव मंदिर मेला समिति के महासचिव ओमवीर बैंसला ने कतई पीछे नही रहे। महासचिव ओमवीर बैंसला ने- भारी कष्ट उठा कर, तुमको जन्म दिया इस बार—- भजन प्रस्तुत करते हुए श्रोताओं को मंत्रमुग्ध कर दिया। अतं में मेला समिति के मीडिया प्रभारी मूलचंद शर्मा ने स्मृति चिन्ह भेंट कर इन लोक कलाकारों को सम्मानित किया।
मीडिया प्रभारी मूलचंद शर्मा ने बताया कि दिनांक 16 अप्रैल-2022 शनिवार की सांय हरियाणा और राजस्थान के कलाकारों द्वारा सांस्कृतिक कार्यक्रम प्रस्तुत किए जाएंगे। जब कि रात्रिकालीन रागनियों के रंगारंग कार्यक्रमों में राधा चौधरी एंड पार्टी,कर्मवीर बैंसला और सहकलाकार सुंदर जेनई, मुस्कान, बेबी, कोमल चौधरी, बिशन फजलगढ आदि कलाकार खास प्रस्तुतियां देंगे। उन्होंने बताया
कि 26 अप्रैल-2022 तक प्रतिदिन प्राचीनकलीन बाराही मेले में अलग अलग लोक कलाकारों की मंडलियां रागनियों की खास प्रस्तुतियां देती रहेंगी। इसके साथ ही बाराही मेला-2022 में बच्चों के मनोरंजन के लिए कठपुतली शो, नट कला,मौत का कुआ, सर्कस जादूगर शो और विभिन्न प्रकार के झूले लगाए गए हैं। बाराही मेले के अंतिम दिन 26 अप्रैल को दोपहर 2.30 बजे से 101 रूपये से लेकर 31000 रूपये तक के दंगल में दूर दूर से आकर पहलवान अपनी मल्ल कला का प्रदर्शन करेंगे।

कार्यक्रम में इस मौके परं श्रीचंद भाटी, चौधरी धर्मपाल भाटी प्रधान, ओमवीर बैंसला, लक्ष्मण सिंघल, मूलचंद शर्मा, बिजेंद्र ठेकेदार, भोपाल ठेकेदार, धर्मवीर भाटी, जगदीश एडवोकेट, विनोद भाटी, रवि भाटी, महाराज सिंह उर्फ पप्पू, अज्जू भाटी, राजवीर शर्मा, विनोद पंडित तेल वाले, लीलू भगतजी, अनिल कपासिया आदि मेला समिति के पदाधिकारी और गणमान्यजन उपस्थित रहे

Leave a Reply

Your email address will not be published.