एनआईईटी, ग्रेटर नोएडा संस्थान में स्मार्ट इंडिया हैकाथॉन के राष्ट्रीय स्तर पर होने वाले फाइनल राउंड में भाग लेने के लिए टीमों का चयन करने हेतु दो दिवसीय इंटरनल हैकाथॉन प्रतियोगिता का शुभारम्भ किया गया ।

www.facewarta.in

इस वर्ष का स्मार्ट इंडिया हैकाथॉन कंपटीशन भारत सरकार के शिक्षा मंत्रालय द्वारा आयोजित किया जा रहा है

ग्रेटर नोएडा:- एनआईईटी, ग्रेटर नोएडा संस्थान में स्मार्ट इंडिया हैकाथॉन के राष्ट्रीय स्तर पर होने वाले फाइनल राउंड में भाग लेने के लिए टीमों का चयन करने हेतु दो दिवसीय इंटरनल हैकाथॉन प्रतियोगिता का शुभारम्भ किया गया । जिसमें कुल 38 टीमों ने भाग लिया । इस वर्ष का स्मार्ट इंडिया हैकाथॉन कंपटीशन भारत सरकार के शिक्षा मंत्रालय द्वारा आयोजित किया जा रहा है जिसमें युवा छात्रों को 559 समस्याओं के विवरण दिए गए हैं जिनमें से 457 सॉफ्टवेयर पर आधारित हैं और 102 हार्डवेयर पर आधारित हैं । यह समस्याएं भारत सरकार के विभिन्न मंत्रालयों, इसरो, डीआरडीओ और अन्य सरकारी विभागों द्वारा दी गई है। एनआईईटी संस्थान में 28 टीम सॉफ्टवेयर क्षेत्र में प्रतिस्पर्धा के लिए अपनी जगह बनाने के लिए कठिन संघर्ष कर रही हैं जबकि हार्डवेयर प्रतियोगिता के लिए 10 टीमों ने अपना नामांकन किया है।  एनआईईटी संस्थान में छात्रों ने 11 वृह्द क्षेत्रों में से 31 समस्याओं के समाधान के लिए विषय चुने हैं ।  इस वर्ष प्रतियोगिता के नियम के मुताबिक केवल 10 टीम ही एक संस्थान से चयनित की जा सकती हैं तथा 5 टीमों को प्रतीक्षा सूची में रखा जा सकता है । राष्ट्रीय स्तर पर किसी भी एक समस्या के समाधान के लिए अधिकतम 125 टीमों को ही प्रथम आगत प्रथम स्वागत के आधार पर चुना जाएगा।

 हर टीम में 6 छात्र और 2 मेंटर हो सकते हैं।  मेंटर का चयन शिक्षा जगत या औद्योगिक  जगत  से  किया  जा  सकता  है।  प्रत्येक टीम में कम से कम एक छात्रा का होना अनिवार्य है।  संस्थान स्तर पर चयनित टीमें स्मार्ट इंडिया हैकाथॉन की वेबसाइट पर 10 मार्च से प्रतिभाग के लिए आवेदन कर सकती हैं।  आज  इंटरनल  हैकाथॉन प्रतियोगिता का  उद्घाटन  संसथान के  एग्जीक्यूटिव  वाईस  प्रेजिडेंट  श्री  रमन  बत्रा  द्वारा किया गया।  इस अवसर पर निदेशक  डॉ  विनोद  काप्से,  निदेशक  (अकादमिक)  डॉ  बी सी शर्मा,  निदेशक  (प्रोजेक्ट्स  एंड  प्लानिंग) डॉ  प्रवीण  पचौरी, डीन डॉ  रेखा  कश्यप,  प्रो  पंकज  त्यागी,  प्रो  कुमुद  सक्सेना,  प्रो प्रियंका  चंदानी,  प्रो रितेश रस्तोगी, प्रो  विनीत वर्मा,  श्री मयंक दीप खरे, श्री आशुतोष कुमार सिंह, श्री संजय मौर्य आदि लोग उपस्थित रहे।  निर्णायक मंडल में डॉ सीएस यादव, डॉ श्याम लाल वर्मा, डॉ वी के पांडे, डॉ पवन शुक्ला, डॉ विवेक कुमार, डॉ हितेश कुमार, डॉ  राजकुमार गोयल, प्रो हर्षवर्धन मिश्रा, प्रो  हर्ष अवस्थी शामिल रहे। कार्यक्रम के सफलतापूर्वक आयोजन में प्रो अदिति मट्टू, श्री राहुल शर्मा और श्री  विवेक रंजन का विशेष सहयोग रहा।  श्री रमन बत्रा ने प्रतियोगिता में भाग लेने वाले छात्रगणो को हैकथॉन की राष्ट्र की समस्याओं के सफल समाधान खोजने में छात्रों की भूमिका से परिचित कराया। डॉ विनोद काप्से ने छात्रों को समस्या की तह में जाकर विश्लेषण आधारित समाधान प्रक्रिया को अपनाने पर जोर दिया। डॉ बी सी शर्मा ने छात्रों को इनोवेशन की उपयोगिता से परिचित कराया। डॉ प्रवीण पचौरी ने स्मार्ट इंडिया हैकाथॉन के बदले स्वरुप से छात्रों को अवगत कराया और संस्थान की ओर से भारत के माननीय प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी जी को छात्रों को राष्ट्र निर्माण में अपना योगदान देने का यह अवसर प्रदान करने के लिए कृतज्ञता ज्ञापित की तथा केंद्रीय शिक्षा मंत्री डॉ धर्मेंद्र प्रधान का आभार व्यक्त किया। उन्होंने एआईसीटीई के चेयरमैन प्रो अनिल सहस्रबुद्धे तथा शिक्षा मंत्रालय की इनोवेशन सेल के पदाधिकारियों श्री राकेश रंजन, डॉ अभय जेरे और डॉ मोहित गंभीर के भारत में आयोजित की जाने वाली हैकाथॉन प्रतियोगिताओं को विश्व पटल पर एक नयी पहचान दिलाने के लिए किये जाने वाले अथक प्रयासों की सराहना की और भरोसा दिलाया कि एनआईईटी हमेशा राष्ट्र निर्माण की लिए किए गए प्रयासों में उनके साथ कंधे से कंधा मिलकर खड़ा रहेगा। 

Leave a Reply

Your email address will not be published.