मुख्यमंत्री ने कोरोना संक्रमण से बचाव और उपचार की व्यवस्थाओं को निरन्तर सुदृढ़ रखने के निर्देश दिए।

फेस वार्ता

वर्तमान परिस्थितियों में संक्रमण से बचाव के
दृष्टिगत विशेष सतर्कता एवं सावधानी बरतना आवश्यक

विशेषज्ञों का मानना है कि यह वैरिएंट पूर्व के
वैरिएंट्स की तुलना में बहुत कम नुकसानदेह

कोविड प्रोटोकॉल का पूर्णतया पालन सुनिश्चित कराएं

प्रदेश के सभी शासकीय/निजी कार्यालयों में एक समय में 50 प्रतिशत
कार्मिकों की भौतिक उपस्थिति की व्यवस्था लागू की जाए, यह व्यवस्था
आवश्यक सेवाओं से सम्बन्धित कार्यालयों पर लागू नहीं होगी

आवश्यकतानुसार वर्क फ्रॉम होम संस्कृति को प्रोत्साहित किया जाए

निजी क्षेत्र के कार्यालयों में सेवारत कोई कर्मचारी यदि कोविड पॉजिटिव होता
है, तो उसे भी न्यूनतम 07 दिनों का वेतन सहित अवकाश अनुमन्य कराया जाए

सभी कार्यालयों में कोविड हेल्प डेस्क की स्थापना अनिवार्य रूप से करायी जाए

वैक्सीन का सुरक्षा कवच प्राप्त कर चुके स्वस्थ और
सामान्य व्यक्तियों के लिए यह वैरिएंट बड़ा खतरा नहीं

15 से 17 वर्ष के किशोर बच्चों के टीकाकरण के दृष्टिगत
अधिक से अधिक स्कूलों में विशेष शिविर आयोजित किये जाएं

विधानसभा निर्वाचन के दृष्टिगत टीकाकरण कार्य को और तेज किये जाने
पर बल, घोषित निर्वाचन कार्यक्रम के अनुसार चरणबद्ध रूप से जनपदों को
चिन्हित करते हुए शत-प्रतिशत टीकाकरण का लक्ष्य निर्धारित किया जाए

यह सुनिश्चित किया जाए कि मतदान तिथि के 10 दिवस पूर्व सम्बन्धित जनपद
के प्रत्येक पात्र नागरिक को टीके की कम से कम एक डोज प्राप्त हो जाए

भारत सरकार के दिशा-निर्देशों के अनुरूप प्रत्येक पात्र व्यक्ति को प्रिकॉशन
डोज दी जाए, पुलिस बल के हर सदस्य को प्रिकॉशन डोज दी जाए

सरकारी तथा निजी अस्पतालों में ओ0पी0डी0 के मरीजों के
लिए ऑनलाइन अपॉइंटमेंट की व्यवस्था को प्रोत्साहित किया जाए

मरीजों को टेलीकन्सल्टेशन की सुविधा का विकल्प दिया जाना चाहिए,
विशेष परिस्थितियों में ही चिकित्सीय परामर्श के लिए लोग अस्पताल आएं

बस अड्डों, रेलवे स्टेशन तथा एयरपोर्ट पर टेस्टिंग के दौरान कोरेाना
पॉजिटिव पाए जा रहे लक्षणयुक्त लोगों को संस्थागत आईसोलेशन में रखा जाए

जनपदों के नोडल अधिकारियों को सम्बन्धित
जनपद में 03 दिवसीय प्रवास के लिए भेजा जाए

जनपद भ्रमण के दौरान यह नोडल अधिकारीगण सम्बन्धित जिले
में कोरोना टेªेसिंग, टेस्टिंग, वैक्सीनेशन अस्पतालों की व्यवस्थाओं
के साथ-साथ रैनबसेरों के इन्तजाम का निरीक्षण करेंगे

विगत दिवस प्रदेश के कुछ जिलों से ओलावृष्टि की सूचना
प्राप्त हुई है, ओलावृष्टि से हुए नुकसान का आकलन करते हुए
प्रभावित लोगों को तत्काल सहायता उपलब्ध कराने के निर्देश

इन्टीग्रेटेड कमाण्ड एण्ड कन्ट्रोल सेन्टर तथा
निगरानी समितियों को पूरी तरह सक्रिय किया जाए

पिछले 24 घण्टे में प्रदेश में 02 लाख 01 हजार 465 कोरोना टेस्ट किए गए,
अब तक राज्य में 09 करोड़ 48 लाख 53 हजार 350 कोविड टेस्ट सम्पन्न

लखनऊ: 10 जनवरी, 2022

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ जी ने कोरोना संक्रमण से बचाव और उपचार की व्यवस्थाओं को निरन्तर सुदृढ़ रखने के निर्देश दिए हैं। उन्होंने कहा कि वर्तमान परिस्थितियों में संक्रमण से बचाव के दृष्टिगत विशेष सतर्कता एवं सावधानी बरतना आवश्यक है। उन्होंने कोविड प्रोटोकॉल का पूर्णतया पालन सुनिश्चित कराए जाने के निर्देश भी दिए हैं।
मुख्यमंत्री जी आज यहां अपने सरकारी आवास पर आहूत टीम-9 की बैठक में प्रदेश में कोविड-19 की स्थिति की समीक्षा कर रहे थे। उन्होंने निर्देशित किया कि प्रदेश के सभी शासकीय/निजी कार्यालयों में एक समय में 50 प्रतिशत कार्मिकों की भौतिक उपस्थिति की व्यवस्था लागू की जाए। यह व्यवस्था आवश्यक सेवाओं से सम्बन्धित कार्यालयों पर लागू नहीं होगी। आवश्यकतानुसार वर्क फ्रॉम होम संस्कृति को प्रोत्साहित किया जाए। निजी क्षेत्र के कार्यालयों में सेवारत कोई कर्मचारी यदि कोविड पॉजिटिव होता है तो उसे भी न्यूनतम 07 दिनों का वेतन सहित अवकाश अनुमन्य कराया जाए। सभी कार्यालयों में कोविड हेल्प डेस्क की स्थापना अनिवार्य रूप से करायी जाए। बिना स्क्रीनिंग किसी को प्रवेश न दिया जाए।
मुख्यमंत्री जी ने कहा कि विशेषज्ञों का मानना है कि यह वैरिएंट पूर्व के वैरिएंट्स की तुलना में बहुत कम नुकसानदेह है। बहुत कम संख्या में लोगों को अस्पताल मे भर्ती होने की जरूरत पड़ रही है। कोविड के खिलाफ वैक्सीन सुरक्षा कवच है। वैक्सीन का सुरक्षा कवच प्राप्त कर चुके स्वस्थ और सामान्य व्यक्तियों के लिए यह वैरिएंट बड़ा खतरा नहीं है। उन्होंने कहा कि वैक्सीनेशन की उपयोगिता को देखते हुए जल्द से जल्द सभी पात्र लोगों का टीकाकरण किया जाए। 15 से 17 वर्ष के किशोर बच्चों के टीकाकरण के दृष्टिगत अधिक से अधिक स्कूलों में विशेष शिविर आयोजित किये जाएं।
मुख्यमंत्री जी ने कहा कि विधानसभा निर्वाचन के दृष्टिगत टीकाकरण कार्य को और तेज किये जाने पर बल देते हुए उन्हांेने कहा कि घोषित निर्वाचन कार्यक्रम के अनुसार चरणबद्ध रूप से जनपदों को चिन्हित करते हुए शत-प्रतिशत टीकाकरण का लक्ष्य निर्धारित किया जाए। यह सुनिश्चित किया जाए कि मतदान तिथि के 10 दिवस पूर्व सम्बन्धित जनपद के प्रत्येक पात्र नागरिक को टीके की कम से कम एक डोज प्राप्त हो जाए। उन्होंने इस नवीन नीति के क्रम में विस्तृत कार्य योजना अविलम्ब तैयार कर प्रस्तुत किये जाने के निर्देश दिए।
मुख्यमंत्री जी ने कहा कि आज से सभी कोरोना वॉरियर्स, हेल्थ केयर तथा फ्रंट लाइन वर्कर्स एवं 60 वर्ष सेे ऊपर की आयु के नागरिकों के लिए प्रिकॉशन डोज दी जा रही है। उन्होंने निर्देशित किया कि भारत सरकार के दिशा-निर्देशों के अनुरूप प्रत्येक पात्र व्यक्ति को प्रिकॉशन डोज दी जाए। पुलिस बल के हर सदस्य को प्रिकॉशन डोज दी जाए।
मुख्यमंत्री जी ने कहा कि सरकारी तथा निजी अस्पतालों में ओ0पी0डी0 के मरीजों के लिए ऑनलाइन अपॉइंटमेंट की व्यवस्था को प्रोत्साहित किया जाए। मरीजों को टेलीकन्सल्टेशन की सुविधा का विकल्प दिया जाना चाहिए, ताकि विशेष परिस्थितियों में ही चिकित्सीय परामर्श के लिए लोग अस्पताल आयें। उन्होंने निर्देशित किया कि बस अड्डों, रेलवे स्टेशन तथा एयरपोर्ट पर टेस्टिंग के दौरान कोरोना पॉजिटिव पाए जा रहे लक्षणयुक्त लोगों को संस्थागत आईसोलेशन में रखा जाए। इनके लिए क्वारंटीन सेन्टर, भोजन और समुचित उपचार की प्रभावी व्यवस्था की जाए।
मुख्यमंत्री जी ने निर्देशित किया कि जनपदों के नोडल अधिकारियों को सम्बन्धित जनपद में 03 दिवसीय प्रवास के लिए भेजा जाए। जनपद भ्रमण के दौरान यह नोडल अधिकारीगण सम्बन्धित जिले में कोरोना टेªेसिंग, टेस्टिंग, वैक्सीनेशन अस्पतालों की व्यवस्थाओं के साथ-साथ रैनबसेरों के इन्तजाम का निरीक्षण करेंगे। उन्होंने कहा कि विगत दिवस प्रदेश के कुछ जिलों से ओलावृष्टि की सूचना प्राप्त हुई है। उन्होंने ओलावृष्टि से हुए नुकसान का आकलन करते हुए प्रभावित लोगों को तत्काल सहायता उपलब्ध कराने के निर्देश दिए।
मुख्यमंत्री जी ने कहा कि इन्टीग्रेटेड कमाण्ड एण्ड कन्ट्रोल सेन्टर (आई0सी0सी0सी0) तथा निगरानी समितियों को पूरी तरह सक्रिय किया जाए। आई0सी0सी0सी0 में नियमित तौर पर प्रतिदिन बैठक आहूत कर स्थिति की समीक्षा की जाए। वहां विशेषज्ञ चिकित्सकों का पैनल भी उपलब्ध रहे। निगरानी समितियों द्वारा घर-घर सम्पर्क कर बिना टीकाकरण वाले लोगों को चिन्हित किया जाए। इसकी सूची जिला प्रशासन को उपलब्ध करायी जाए, ताकि इन लोगों को वैक्सीनेशन के लिए प्रेरित और प्रोत्साहित किया जा सके।
बैठक में मुख्यमंत्री जी को अवगत कराया गया कि पिछले 24 घण्टों में राज्य में कोरोना संक्रमण के 8,334 नए मामले सामने आए हैं। इस अवधि में 335 व्यक्तियों को सफल उपचार के उपरान्त डिस्चार्ज किया गया। वर्तमान में प्रदेश में कोरोना के सक्रिय मामलों की संख्या 33,946 है। पिछले 24 घण्टे में प्रदेश में 02 लाख 01 हजार 465 कोरोना टेस्ट किए गए। अब तक राज्य में 09 करोड़ 48 लाख 53 हजार 350 कोविड टेस्ट सम्पन्न हो चुके हैं।

राज्य में गत दिवस तक 21 करोड़ 38 लाख 75 हजार से अधिक कोरोना वैक्सीन की डोज लगाई जा चुकी हैं। 07 करोड़ 91 लाख 46 हजार से अधिक लोगों को टीके की दोनों डोज देकर कोविड सुरक्षा कवच प्रदान किया जा चुका है। 13 करोड़ 47 लाख 29 हजार से अधिक लोगों ने कोविड वैक्सीन की पहली डोज प्राप्त कर ली है। यह संख्या टीकाकरण के लिए पात्र प्रदेश की कुल आबादी की 83.46 प्रतिशत है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.