आई.टी.एस. इन्जीनियरिंग कॉलेज के डिपार्टमेंट ऑफ एप्लाइड साइंस एण्ड हयूनमेनिटीज ने विश्व ओजोन दिवस पर भाषण

ओजोन दिवस का आयोजन

Facewarta.in

आई.टी.एस. इन्जीनियरिंग कॉलेज के डिपार्टमेंट ऑफ एप्लाइड साइंस एण्ड हयूनमेनिटीज ने विश्व ओजोन दिवस पर भाषण, कविता पाठ एवं पॉवरप्वाइंट प्रतियोगिता का आयोजन किया। इस प्रतियोगिता में बी.टेक. की विभिन्न ब्रांचों के पचास से अधिक छात्रों ने भाग लिया।
कार्यक्रम के मुख्य व्यक्ता डॉ. ओपी चौधरी, विभागाध्यक्ष ने ओजोन परत पर प्रकाश डालते हुए बताया कि ओजोन परत के संरक्षण के लिये सयुक्त राष्ट्र महासभा ने साल 1994 में 16 सितम्बर की तारीख को अंतराष्ट्रीय ओजोन दिवस मनाने का ऐलान किया , पहली बार विश्व ओजोन दिवस साल 1995 में मनाया गया था जिसके बाद हर साल पूरी दुनिया में 16 सितम्बर को विश्व ओजोन दिवस मनाया जाता है, ओजोन परत, ओजोन अणुओं की एक परत है जो 20 से 40 किलोमीटर के बीच के वायुंमडल में पायी जाती है। ओजोन परत पृथ्वी को सूर्य की हानिकारक अल्ट्रा वाइलट किरणों अगर सीधे धरती पर पहुॅच जाये तो मनुष्य , पेड़-पौधों और जानवरों के लिये बेहद खरतनाक हो सकती हैं। ऐेसे में ओजोन परत का संरक्षण बेहद महत्वपूर्ण है। देशक डॉ. बी सी शर्मा ने छात्रों को सम्बोधित करते हुए कहा कि ओजोन दिवस पर्यावरण के दूषित होने से ओजोन परत में हो रहे छेद से बहुत नुकसानदायक प्रणाम होने वाले हैं। खासकर लोग गम्भीर बीमारियों की चपेट में आ सकते हैं। ऐसे में इसकी रोकथाम के लिए सभी लोगों को जागरुक होना होगा।
कार्यक्रम का संचालन कर रही

डॉ. दीपा सिंह ने विजेताओं की घोषणा की जिसमें भाषण प्रतियोगिता मे अभिषेक पाण्डे , कविता पाठ में शिवानी दुबे और पॉवर प्वाइंट में यश कुमार को प्रथम पुरस्कार दिया गया।

Leave a Reply

Your email address will not be published.