आजादी का अमृत महोत्सव के तहत आईआईएमटी कॉलेज ग्रेटर नोएडा में हुआ बिजली महोत्सव एवं ऊर्जा दिवस का आयोजन।

गौतम बुद्ध नगर । फेस वार्ता:-

जनपद के सांसद डॉ महेश शर्मा व  विधायक जेवर धीरेन्द्र सिंह ने दीप प्रज्वलित कर किया बिजली महोत्सव एवं ऊर्जा दिवस कार्यक्रम का शुभारंभ।

विद्युत विभाग के द्वारा चलाई जा रही जन कल्याणकारी योजनाओं की उपस्थित आमनागरिकों को दी गयी विस्तृत जानकारी।

भारत सरकार एवं उत्तर प्रदेश सरकार की मंशा के अनुरूप शासन के निर्देशों के क्रम में आजादी के अमृत महोत्सव के तहत प्रदेश के समस्त जनपदों में बिजली के क्षेत्र की प्रमुख उपलब्धियों से आम नागरिकों को अवगत कराने एवं विद्युत विभाग के द्वारा संचालित जनकल्याणकारी योजनाओं का लाभ प्रत्येक पात्र लाभार्थियों तक पहुंचाने व भविष्य में प्राप्त होने वाली विकास की सम्भावनाओं का प्रदर्शन करने के उद्देश्य से प्रदेश भर में 25 जुलाई से 31 जुलाई 2022 तक बिजली महोत्सव एवं ऊर्जा दिवस का आयोजन किया जा रहा है। इसी क्रम में आज प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की मंशा के अनुरूप जनपद गौतम बुद्ध नगर में जिलाधिकारी सुहास एलवाई के नेतृत्व में आईआईएमटी कॉलेज ग्रेटर नोएडा के सभागार में बिजली महोत्सव एवं ऊर्जा दिवस का शुभारंभ मुख्य अतिथि सांसद डॉ महेश शर्मा एवं जेवर क्षेत्र के विधायक धीरेंद्र सिंह के द्वारा दीप प्रज्वलित करते हुए किया गया, जिसमें मुख्य विकास अधिकारी तेज प्रताप मिश्र, मुख्य अभियंता विद्युत विभाग वीरेन्द्र नाथ सिंह, संयुक्त निदेशक विद्युत विभाग मनोज कुमार जायसवाल, अधीक्षण अभियंता प्रथम नोएडा विद्युत विभाग संजीव कुमार वैश्य तथा वरिष्ठ अधिकारीगण एवं गणमान्य व्यक्ति उपस्थित रहे।

इस महत्वपूर्ण कार्यक्रम में सांसद डॉ महेश शर्मा ने अपने उद्गार व्यक्त करते हुए कहा कि भारत के  प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी एवं उत्तर प्रदेश के माननीय मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ जी के नेतृत्व में देश व प्रदेश की दिशा एवं दशा दोनों बदल रही है। उन्होंने कहा कि पहले ग्रामीण क्षेत्रों में किसानों को खेती करने के लिए बिजली का इंतजार करना होता था और रात में अपने खेतों की सिंचाई करनी पड़ती थी, परंतु देश और प्रदेश में डबल इंजन की सरकार बनने के बाद से ग्रामीण क्षेत्रों में बिजली की आपूर्ति को 12 घंटे से बढ़ाकर 22 घंटे कर दिया गया है, अब ग्रामीण क्षेत्रों में किसानों को रातों को जाग जाग कर अपने खेतों में सिंचाई करने की जरूरत नहीं पड़ती। उन्होंने कार्यक्रम में उपस्थित गणमान्य व्यक्तियांे का आहवान करते हुये कहा कि हम लोगों के पास बिजली एवं जल सीमित मात्रा में है, इसलिए हम लोगों को बिजली व जल के अनावश्यक प्रयोग से बचना होगा। साथ ही उन्होंने कहा कि भारत सरकार एवं उत्तर प्रदेश सरकार के द्वारा विद्युत विभाग के माध्यम से विभिन्न जनकल्याणकारी योजनाएं चलाई जा रही हैं, जिनका लाभ उठाकर पात्र लाभार्थी विकासपथ पर अग्रसर हो रहे हैं। इस अवसर पर माननीय सांसद डॉ महेश शर्मा एवं जेवर क्षेत्र के विधायक धीरेंद्र सिंह के द्वारा सौभाग्य योजना के लाभार्थियों को प्रमाण पत्र भी वितरित किए गए।

इस अवसर पर विद्युत विभाग के संयुक्त निदेशक/जिला नोडल अधिकारी एम0के0 जायसवाल के द्वारा विद्युत विभाग विभाग की उपलब्धियों पर प्रकाश डालते हुए बताया गया कि वर्ष 2014 में उत्पादन क्षमता 248554 मेगा वाट से बढ़ाकर वर्तमान में 400000 मेगावाट हो गई है, जोकि हमारी मांग से 185000 मेगावाट अधिक है एवं भारत अब अपने पड़ोसी देशों को भी बिजली निर्यात कर रहा है। पारेषण लाइनों में 163000 सीकेएम वृद्धि की गई, जो पूरे देश को एक फ्रीक्वेंसी पर चलने वाले ग्रिड से जोड़ती है। लद्दाख से कन्याकुमारी तक और कच्छ से म्यांमार की सीमा तक यह दुनिया में सबसे बडे़ एकीकृत ग्रिड के रूप में उभरा है। उन्होंने बताया कि हम ग्रिड का उपयोग करके देश के किसी भी कोने से दूसरे कोने तक 112000 मेगावाट विद्युत पहुंचा सकते है। हमने काॅप 21 में वादा किया था कि 2030 तक हमारी 40 प्रतिशत उत्पादन क्षमता नवीकरणीय उर्जा स्त्रोतों से होगी। हमने तय समय सीमा से 9 वर्ष पूर्व नवंबर 2021 तक यह लक्ष्य हासिल कर लिया है। उन्होंने बताया कि वर्तमान समय में हम नवीकरणीय उर्जा से 163000 मेगावाट विद्युत का उत्पादन कर रहे है एवं हम विश्व में तेज गति से नवीकरणीय उर्जा क्षमता संस्थापित कर रहे है। 201722 करोड़ रूपये के कुल परिव्यय के साथ हमने पिछले पांच वर्षो में 2921 नए सब स्टेशन का निर्माण 3926 सब स्टेशनों का संवर्धन 604465 सीकेएस एलटी लाइनों का संस्थापन 11 केवी की 268838 एचटी लाइनों का संस्थापन 122123 सीकेएम कृषि फीडरों का फीडर पृथककरण और संस्थापित करके वितरण अवसंरचना को सुदृ़ढ़ किया है। उन्होंने यह भी बताया कि विद्युत विभाग ने नया कनेक्शन प्राप्त करने की अधिकतम समय सीमा निर्धारित की है एवं रूफटॉप सोलर को अपनाकर उपभोक्ता अब उत्पादक भी बन सकते हैं। समय पर बिलिंग सुनिश्चित की जाएगी तथा मीटर संबंधित शिकायतों को दूर करने के लिए भी समय सीमा निर्धारित किया गया है। उन्होंने बताया कि उपभोक्ता शिकायतों के समाधान के लिए डिस्कॉम के माध्यम से 24×7 के कॉल सेंटर स्थापित किए जाएंगे।उन्होंने यह भी बताया कि वर्ष 2018 में 987 दिनों में गांव का 100 प्रतिशत का विद्युतीकरण करते हुए 18374 गांवों तक बिजली पहुंचाने की कार्रवाई की गई है तथा लोगों के लिए सोर पंपों का उपयोग शुरू करने के लिए योजना बनाई गई, जिसके तहत केंद्र सरकार 30 प्रतिशत और राज्य सरकार 30 प्रतिशत सब्सिडी देगी, इसके अलावा 30 प्रतिशत ऋण की सुविधा विद्युत विभाग के माध्यम से दी जाएगी। आयोजित महत्वपूर्ण कार्यक्रम में प्रज्ञान पब्लिक स्कूल के छात्र-छात्राओं के द्वारा विभिन्न सांस्कृतिक कार्यक्रमों, नुक्कड़ नाटक से आमनागरिकों को जागरूक किया गया और विद्युत विभाग के द्वारा बिजली के क्षेत्र पर लघु फिल्मों की स्क्रीनिंग का आयोजन करते हुए केंद्र और राज्य सरकार के द्वारा विद्युत विभाग के माध्यम से संचालित जन कल्याणकारी योजनाओं की विस्तारपरक रूप से आम नागरिकों को जानकारी उपलब्ध कराई, ताकि जनकल्याणकारी योजनाओं का लाभ प्रत्येक पात्र लाभार्थी उठा सकें।

Leave a Reply

Your email address will not be published.