ग्रेटर नोएडा प्राधिकरण के सीईओ व मेरठ मंडलायुक्त सुरेन्द्र सिंह ने बुधवार को नॉलेज पार्क टू में किया पौधरोपण।

 फेस वार्ता:-

सीईओ ने ग्रीन बेल्ट में फलदार पौधे लगाने के दिए निर्देश

ग्रेटर नोएडा। ग्रेटर नोएडा प्राधिकरण ने तीन दिवसीय बृहद पौधरोपण अभियान के अंतर्गत बीते दो दिनों में ही 1.02 लाख पौधे रोपित कर दिए। वन विभाग ने प्राधिकरण को तीन दिन में 1.15 लाख पौधे लगाने का लक्ष्य तय किया है। ग्रेटर नोएडा प्राधिकरण के सीईओ व मेरठ मंडलायुक्त सुरेन्द्र सिंह ने बुधवार को नॉलेज पार्क टू में नोएडा-ग्रेटर नोएडा एक्सप्रेसवे पर गलगोटिया कॉलेज के पास ग्रीन बेल्ट में जामुन के पौधे रोपित किए। सीईओ ने इस ग्रीन बेल्ट की सफाई करके 24 घंटे में जामुन के पौधे रोपित करने के निर्देश दिए। 

प्रदेश भर में पौधरोपण के लिए चलाए जा रहे जन जागरण आंदोलन के तहत ग्रेटर नोएडा प्राधिकरण को 1.15 लाख पौधे लगाने का लक्ष्य मिला है। प्राधिकरण 28 जगहों पर ये पौधे लगवा रहा है। ये पौधे सेक्टर थीटा, म्यू वन व टू, ज्यू वन, टू व थ्री, ओमीक्रान वन ए, वन व टू, 80 मीटर रोड, इकोटेक वन (एक्सटेंशन), इकोटेेक 10 व 11, इकोटेक 6, 7 व 8, 105 मीटर रोड, स्वर्णनगरी, सिग्मा टू व थ्री, रो वन व टू, नॉलेज पार्क वन, टू, थ्री व फाइव, कलाधाम व पंचवटी, चाई थ्री-फोर, फाई थ्री-फोर, गौतमबुद्ध विवि, आईटी सिटी रोड, पी थ्री, पी फोर, नोएडा-ग्रेटर नोएडा एक्सप्रेसवे, सेक्टर तीन, डी पार्क, टेक्जोन फोर, 45, 60 व 80 मीटर रोड आदि जगहों पर लगाए जा रहे हैं। बीते दो दिनों में प्राधिकरण 1.02 लाख पौधे लगा चुका है। ग्रेटर नोएडा प्राधिकरण के सीईओ सुरेन्द्र सिंह ने अधिकतर जगहों पर फलदार पौधे ही लगाने के निर्देश दिए हैं। इसके चलते उद्यान विभाग जामुन, आंवला व अमरूद आदि पौधे लगा रहा है। नॉलेज पार्क टू में पौधरोपण करने पहुंचे सीईओ ने ग्रीन बेल्ट में जामुन के पौधे लगाए। उन्होंने एक्सप्रेसवे के किनारे स्थित इस पूरी ग्रीन बेल्ट को 24 घंटे में साफ करके जामुन के पौधे लगाने के निर्देश दिए हैं। सीईओ ने वहां काम कर रहे माली के साथ फोटो भी खिंचवाए। सीईओ ने सभी ग्रेटर नोएडावासियों से इस अभियान से जुड़ते हुए अधिक से अधिक पौधे लगाने व ग्रेटर नोएडा को और हरा-भरा बनाने की अपील की है। पौधरोपण के दौरान महाप्रबंधक परियोजना एके अरोड़ा, वरिष्ठ प्रबंधक कपिल सिंह, सहायक प्रबंधक गौरव बघेल आदि मौजूद रहे।

Leave a Reply

Your email address will not be published.