देश और समाज के गुमनाम राष्ट्र सेवकों एवं बच्चों को समर्पित है राष्ट्र गौरव सम्मान एवं अंतर्राष्ट्रीय बाल पुरस्कार-2022- डॉ. वी. पी. सिंह।

फेस वार्ता। भारत भूषण शर्मा:-

दिल्ली:-

समाज में उच्च आदर्शों की स्थापना और नवभारत का निर्माण करने के उद्देश्य से ह्यूमन राइट्स एंड क्राइम कंट्रोल काउंसिल द्वारा दिया जाता है – राष्ट्र गौरव सम्मान एवं अंतर्राष्ट्रीय बाल पुरस्कार। परिषद उन गुमनाम नायकों को दिया जाता है, जो चकाचौंध से दूर रहकर खामोशी से देश और समाज के लिए अपना योगदान दे रहे हैं और अपने कामकाज के समर्पण से वंचितों, दबे-कुचलों और जरूरतमंदों के जीवन को बेहतर बनाने के लिए संघर्ष कर रहे हैं।

इन पुरस्कारों का संचालन करने वाली संस्था इंटरनेशनल ह्यूमन राइट्स एंड क्राइम कंट्रोल काउंसिल/ नेशनल एंटी करप्शन कमीशन का मानना है कि हमारे देश में टैलेंट की कोई कमी नहीं है। जरूरत है तो सिर्फ सही समय पर उसे पहचानने और पुरस्कृत करने की, ताकि ऐसे लोग खुद को सम्मानित महसूस करें और लगातार सामाजिक उत्थान के कार्यों में लगे रहें। ये वार्षिक पुरस्कार आजीवन उपलब्धि के तौर पर प्रदान किए जाते हैं।

 

आज दिनांक 4 जुलाई 2022 को मेट्रो व्यू होटल करोल बाग में प्रेस वार्ता करते समय संस्था प्रमुख डॉक्टर वी. पी. सिंह और संस्था की उच्चायुक्त आकांक्षा विद्यार्थी ,संस्था की आयुक्त प्रिया शर्मा ,निदेशक सौरभ सचान ,उपनिदेशक रोशनी सिंह, सहायक निदेशक रोहित कुमार एवं सहायक निदेशक दीपक कुमार एवं संस्था के मैनेजर घनश्याम यादव ने बताया कि वर्ष 2022 के लिए परिषद ने अलग-अलग क्षेत्रों में काम कर रही 50 से ज्यादा हस्तियों एवं बच्चों को राष्ट्र गौरव सम्मान एवं अंतर्राष्ट्रीय बाल पुरस्कार से सम्मानित करने का निर्णय लिया है। इनमें शिक्षा, समाज सेवा, मानवाधिकार, बिजनेस, हेल्थ केयर और तकनीकी जैसे क्षेत्रों में काम कर रहे कई युवा और वरिष्ठ नागिरक शामिल हैं। IHRCCC चीफ डॉ वी पी सिंह के मुताबिक पुरस्कारों के लिए चयन प्रक्रिया के दौरान यह ध्यान रखा जाता है कि इनके माध्यम से राष्ट्र के लिए बेहतर योगदान करने वाले नागरिकों की पहचान की जाए और उनकी शख्सियत को सबके सामने लाया जाए।

इंटरनेशनल हुमन राइट्स एंड क्राइम कंट्रोल काउंसिल/ नेशनल एंटी करप्शन कमिशन, राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र के साथ पंजीकृत एक गैर-लाभकारी संगठन है। IHRCCC चीफ ने बताया ” अद्भुत भारत संपन्न भारत “अंतरराष्ट्रीय सम्मेलन एवं सम्मान समारोह- 2022 का आयोजन 20 जुलाई को कांस्टीट्यूशन क्लब आफ इंडिया में एवं 21 जुलाई को शंग्रीला इरोज होटल कनॉट प्लेस में रखा गया है । आकांक्षा विद्यार्थी ने बताया के गुमनाम नायकों को सामने लाने में कई संगठन भी हमें डोनेशन के जरिए सहयोग कर रहे हैं, लेकिन वह तमाम जरूरतों के मुकाबले बेहद कम है। इसलिए हम सक्रिय रूप से ऐसे व्यक्तियों और संगठनों की तलाश कर रहे हैं जो हमारे मकसद के लिए दान कर सकें। आमतौर पर हमने देखा है कि जब दानदाताओं को यकीन हो जाता है कि उनका धन समाज की बेहतरी के लिए इस्तेमाल हो रहा है तो वे मदद में काफी उत्साह दिखाते हैं। परिषद ने यह नियम बनाया है कि सभी पुरस्कार विजेता इंटरनेशनल ह्यूमन राइट्स एंड क्राइम कंट्रोल काउंसिल के साथ-साथ नेशनल एंटी करप्शन कमिशन के सदस्य बन जाते हैं और नई प्रतिभाओं को खोजने और उनके नाम सुझाने में सक्रिय रूप से सहयोग देते हैं। सामाजिक क्षेत्र में काम करने के अनुभव और समझ रखने वाले नागरिकों का परिषद में हमेशा स्वागत है। इंटरनेशनल हुमन राइट्स एंड क्राइम कंट्रोल काउंसिल/ नेशनल एंटी करप्शन कमिशनभारत सरकार के नीति आयोग द्वारा स्वीकृत और भारतीय गुणवत्ता परिषद का सदस्य है। संस्थान भारत के साथ कई अन्य देशों में वर्ष 2013 से काम कर रही है। संस्थान के सदस्य भारत के सभी प्रदेशों में लोगों की मदद कर रहे हैं और साथ-साथ जीव जंतुओं की भी मदद कर रहे हैं उनकी आवास से लेकर के खाने पीने की वस्तुओं का भी संस्था के सदस्य इंतजाम कर रहे हैं संस्था के कार्यों की लोकप्रियता को देखते हुए बहुत सारे लोग संस्था से लगातार जुड़ने का प्रयास कर रहे हैं और इसके स्थाई सदस्य बनते जा रहे हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published.