भारत सरकार द्वारा चलाए जा रहे हैं नशा मुक्ति अभियान के तहत नशीले पदार्थों के दुरुपयोग एवं अवैध तस्करी के खिलाफ किया गया अंतरराष्ट्रीय दिवस का आयोजन।

गौतमबुद्धनगर। फेस वार्ता:-

जिलाधिकारी सुहास एलवाई के निर्देशों के क्रम में भारत सरकार द्वारा चलाये जा रहे नशा मुक्ति अभियान के अंतर्गत “नशीले पदार्थों के दुरुपयोग और अवैध तस्करी के खिलाफ अंतर्राष्ट्रीय दिवस का आयोजन राजकीय आर्युविज्ञान संस्थान, ग्रेटर नोएडा व स्वास्थ्य विभाग की और से राजकीय आर्युविज्ञान संस्थान, ग्रेटर नोएडा के सभागार में आयोजित किया गया, जिसमे मुख्य अतिथि के रूप में अनिल कुमार सिंह, मुख्य विकास अधिकारी, गौतमबुद्धनगर, रणविजय सिंंह एडीशनल डी०सी०पी० एवं जिला समाज कल्याण अधिकारी गौतमबुद्धनगर उपस्थित रहें। कार्यक्रम में महिला थाना की एच०एच०ओ०, नीरज उपस्थित रही।

कार्यक्रम में अतिथियों का स्वागत राजकीय आयुविज्ञान संस्थान, ग्रेटर नोएडा के डॉयरेक्टर डॉ० विग्रेडियर राकेश गुप्ता एवं डॉ० सुनील कुमार शर्मा मुख्य चिकित्सा अधिकारी के द्वारा किया गया।

राजकीय आयुविज्ञान संस्थान की चिकित्सक डॉ० पायल जैन ने नशे के दुरूपयोग के बारे में बताया व इसके साथ ही साथ नशाखोरी की चपेट में आने वाले युवा वर्ग इस तरह जाल में फंसता है कि उसके सोचने समझने की क्षमता भी नष्ट हो जाती है, जिससे वह अपने जीवन में कोई भी निर्णय नहीं ले पाता है। नशा करने के लिये अनेक मादक पदार्थों का सेवन जैसे-शराब, गांजा, चरस, स्मैक, अफीम, बीडी, सिगरेट एवं तम्बाकू आदि का सेवन करने लगता है। नशाखोरी से व्यक्ति अनेक ऐसे गलत कार्यों को करने लगता है जो समाज के खिलाफ होते है। रणविजय सिंह, एडशिनल डी०सी०पी० ने बताया कि भारतीय समाज मे सबसे अधिक संख्या युवा वर्ग की है। युवा वर्ग देश के विकास का एक महत्वपूर्ण अंग माना जाता है। वर्तमान मे हमारे देश के युवा नशाखोरी की समस्या से जूझ रहे है नशाखोरी मे डूबा हुआ व्यक्ति अनेक समस्याओं का सामना करने की अपेक्षा, समस्याओं को भुलाने के लिये नशे का सहारा लेता है और यह नशा उसके जीवन के शारीरिक, मानसिक, समाजिक एवं आर्थिक स्तर को नीचे गिराता है।

आई०एम०ए० के अध्यक्ष, प्रसिद्ध मनोचिकित्सक डॉ० सुनील अवाना ने मानसिक स्वास्थ्य एवं मानसिक बीमारियों का प्रमुख कारण नशे की लत की वजह से मानसिक बीमारियां बढ़ रही है। मुख्य विकास अधिकारी ने लोगों को नशा छोड़ने के लिये प्रोत्साहित किया और बताया कि नशा हमारे सम्पूर्ण जीवन को बर्बाद कर देता है।

जिला समाज कल्याण अधिकारी (नोडल अधिकारी, नशा मुक्त भारत अभियान) ने बताया गया कि नशे से होने वाली मानसिक एवं शारीरिक बीमारियों के बारे में जागरूक किया। डॉ० सुनील कुमार शर्मा, मुख्य चिकित्सा अधिकारी, गौतमबुद्धनगर द्वारा बताया गया कि हमारे जिले मे मानसिक स्वास्थ्य विभाग संयुक्त जिला चिकित्सालय, सैक्टर-30, नोएडा में 03 दिवस ओ०पी०डी० सेवायें दी जाती है एवं 03 दिन मानसिक स्वास्थ्य टीम द्वारा क्षेत्रीय गतिविधियां, स्कूल / कॉलेज, सामुदायिक / प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्रों स्वंय सेवी संस्थान इत्यादि में दी जाती है। डॉ० श्वेता खुराना, जनपदीय सलाहकार द्वारा आये समस्त अतिथिगण को भारत सरकार द्वारा निर्देशित नशा मुक्त अभियान की शपथ दिलवाई गई। जिला मानसिक स्वास्थ्य कार्यक्रम की टीम द्वारा कार्यक्रम में प्रतिभाग किया गया। डॉ० सुनील दोहरे, अपर मुख्य चिकित्सा अधिकारी / नोडल अधिकारी, एन०सी०डी० द्वारा आभार व्यक्त करते हुये सभी को धन्यवाद देते हुये कार्यक्रम का समापन किया।

Leave a Reply

Your email address will not be published.